Tally Prime Me Company Kaise Banaye – Tally Prime में कंपनी कैसे बनाएं ?

Tally Prime Me Company Kaise Banaye : तो दोस्तों टेली प्राइम के बारे में आपको पता चल ही गया होगा कि हमारा टैली erp9 अब बहुत ही पुराना हो चुका है. अगर हम बात करें टेली प्राइम की. तो वह आज के समय में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर बन चुका है. अब बहुत सारे व्यवस्थाओं ने अपने टैली सॉफ्टवेयर को अपडेट करके, टैली erp9 से Tally Prime पर आ गए हैं. उन्होंने अपना सारा डाटा ट्रांसफर कर लिया है. तो आज के समय में अगर कोई भी व्यक्ति नई नौकरी ढूंढने जाता है. तो उसके लिए यह जरूरी है कि उसे टेली प्राइम का इस्तेमाल करना आना चाहिए.

Tally Prime Me Company Kaise Banaye

तो दोस्तों यहां हम आपको Tally Prime में कंपनी कैसे बनाएं ? इस बारे में बताने जा रहे हैं यहां पर हम आपको पूरा विस्तार से बताएंगे कि कैसे आप एक-एक स्टेप को लेकर अपनी Tally Prime के सॉफ्टवेयर में कंपनी को क्रिएट कर सकते हैं. तो चलिए शुरू करते हैं :

Step 1 : 

तो सबसे पहले आपको अपना टैली सॉफ्टवेयर को ओपन करना है.

अब आपके सामने 4 ऑप्शंस दिखाई दे रहे होंगे जो है :

  1. Continue in educational mode
  2. Use licence from network
  3. Reactivate existing licence
  4. Activate new licence

Step 2 : Continue In Education Mode

दोस्तों यहां में Continue In Education Mode पर Click करना है. आप सोच रहे होंगे कि हमने इस पर क्लिक क्यों किया ? तो दोस्तों हम आपको यह बताना चाहेंगे कि Tally आपको एक Educational Mode प्रोवाइड कर आता है.

पैसे के लिए तो अगर किसी भी व्यापार में देखा जाए या फिर जब भी आप किसी बिजनेस में या कंपनी में जाते हैं. तो आपने देखा होगा कि वह टेली को Purchase करके, फिर अपना टैली सॉफ्टवेयर इस्तेमाल करते हैं. परंतु हम यहां आपको सिर्फ यह सिखाना चाहते हैं कि आप कैसे कंपनी क्रिएट कर सकते हैं ?

तो उसके लिए आप Educational Mode का इस्तेमाल कर सकते हैं. अगर आपके पास इसका लाइसेंस है. तो आप लाइसेंस के द्वारा इस सॉफ्टवेयर को खोलें.

Step 3: Company Create

Tally Prime Me Company Kaise Banaye : तो अब आपके सामने टेली प्राइम की स्क्रीन खुल जाएगी. तो आपको अब Alt+F3 पर Press करना है या फिर आप टेली प्राइम के Update New Shortcut Key का इस्तेमाल कर सकते हैं. जो है Alt+K.

जी दोस्तों अब Alt+K का इस्तेमाल, हम लोग Company Create करने के लिए करते हैं. परंतु अगर आपको Shortcut Key Use नहीं करना है, तो आपको स्क्रीन पर ही Right Hand Side में ऊपर की तरफ को कंपनी का ऑप्शन दिखाई दे रहा होगा. इस पर आप क्लिक करें.

Step 4: Company Creation Configuration

तो दोस्तों अब आप देख पा रहे होंगे की आपके सामने एक विंडो खुली है. Company Creation की. अगर हम टैली इआरपी 9 की बात करें. तो उसमें पहले बहुत सारे ऑप्शन हुआ करते थे.

किसी भी कंपनी को बनाने के लिए आप यहां देख सकते हैं कि टेली प्राइम में सिर्फ कुछ ही फीचर्स दिखाई दे रहे हैं. अगर आप अपनी कंपनी की हर एक डिटेल को भरना चाहते हैं. तो आप F12 को Press करें. यह एक Configuration है.

यहां पर आपको इसमें Yes भरना है और Enter कर देना है. अब आप देखेंगे कि आपकी कंपनी क्रिएशन की स्क्रीन पर सभी तरह के डिटेल्स अब उपलब्ध है. जो कि एक सामान्य कंपनी को बनाने के लिए होनी चाहिए.

तो अब हम आपको इस कंपनी क्रिएशन की एक-एक बारीकी से डिटेल्स बताना शुरू करते हैं.

  • Company Data Path : तो दोस्तों यह एक Directory है. जिसमें आप अपनी कंपनी, Tally प्राइम सॉफ्टवेयर का डाटा सेव करके रखते हैं. इस डायरेक्टरी को आप Change भी कर सकते हैं.
  • Company Name : यहां पर आपको अपनी कंपनी का नाम भरना है.
  • Mailing Name : दोस्तों कई बार ऐसा होता है कि कंपनी का नाम और उसका Mailing नाम अलग-अलग होता है. तो यह आप अपने अनुसार भरें.
  • Address : यहां पर आपको अपनी कंपनी का पता भरना है.
  • State : आपकी कंपनी कौन से राज्य में है ? उस राज्य को यहां पर चुप चुनकर सिलेक्ट करना है.
  • Country : आपकी कंपनी किस देश में है ? इंडिया में है ? पाकिस्तान में है ? श्री लंका में है ? जहां पर भी आपकी कंपनी Settle है. उस कंट्री को यहां पर सिलेक्ट करें.
  • Pin Code : यहां पर आप अपनी कंपनी का पिन कोड डालें.
  • Mobile : यहां पर आप अपनी कंपनी का मोबाइल नंबर डालें.
  • Fax : अगर आपकी कंपनी Fax का इस्तेमाल करती है, तो वह नंबर यहां डालें.
  • Email : यहां पर आपको अपनी कंपनी की ईमेल आईडी डालनी है.
  • Website : अगर आपकी कंपनी ने कोई वेबसाइट बना रखी है. अपनी कंपनी को Show करने के लिए, तो उस वेबसाइट का लिंक यहां डालें.
  • Financial Year Beginning From : इंडिया में Financial Year, 1 अप्रैल से शुरू होकर 31 मार्च तक का रहता है. परंतु अगर आपकी कंपनी किसी और Financial Year का इस्तेमाल कर रही है. तो आप यहां वह डालें. Financial Year, दो तरह के होते हैं :
  • i. पहला 1 अप्रैल से लेकर 31 मार्च तक का,
  • ii. दूसरा 1 जनवरी से लेकर 31 दिसंबर तक का.
  • Books Beginning From : तो दोस्तों यहां पर आपको वह तारीख डालनी है, जिस तारीख में आप उस कंपनी को शुरू कर रहे हैं. अगर बात करें जैसे कि आपकी कंपनी 1 जून को शुरू हुई है, तो यहां पर आपको 1 जून डालना है.
  • Set A Tally Vault Password To Encrypt Company Data : दोस्तों अब आप टेली प्राइम में एक पासवर्ड भी सेव कर सकते हैं. यह फीचर आपको टैली इआरपी 9 में भी देखने को मिला होगा. परंतु पहले Tally प्राइम में यह सुविधा आपको प्रदान की है. इसका मतलब यह है कि जब भी आप अपनी कंपनी को Create करते हैं और आप यह चाहते हैं कि इस कंपनी में सिर्फ आप ही काम करें. इस कंपनी का Access सिर्फ आप ही के पास हो. तो आप यहां पर एक पासवर्ड सेट कर सकते हैं. जिससे की आपके सिवा कोई भी दूसरा आपकी इस कंपनी के Date को छोड़ नहीं पाएगा.
  • Control User Access To Company Data : तो दोस्तों इसका मतलब यह होता है कि अगर आप यह चाहते हैं कि आप अपनी कंपनी के डाटा के लिए यूजर्स बनाएं. जैसे कि Admin, Accountant, etc. तो आप यहां से बना सकते हैं. यह सिर्फ एक तरीका है, जिससे आप उस व्यक्ति को सिर्फ उतना ही Access देते हैं, जितने कि उसे जरूरत है. ऐसे आप अपने कंपनी के डाटा को Protect भी कर पाएंगे.
  • Base Currency Symbol : यह ऑप्शन इसलिए इस्तेमाल किया जाता है. ताकि आप इसमें अपनी Country का Currency Symbol डाल पाए. जैसे कि अगर हम बात करें, अपने भारत की. तो यहां पर रुपए करेंसी उपलब्ध है. तो यहां पर आपको रुपया Rs. डालना पड़ेगा.
  • Formal Name : दोस्तों आपने अपनी Currency का Symbol तो यहां डाल दिया है. परंतु उसका Formal Name क्या है ? तो हम आपको बताना चाहेंगे भारत में Currency Symbol Rs. पर है, तो इसका Formal Name INR है.
  • Suffix Symbol To Amount : इसका मतलब यह है कि अगर आप चाहते हैं कि आपकी Bill के Amount के आगे Currency Symbol दिखाई दे. तो यहां पर Yes कर दें और अगर नहीं, तो यहां पर No करके छोड़ दें.
  • Add Space Between Amount And Symbol : तो दोस्तों यहां पर यह पूछा गया है कि क्या आप अपने बिल के अमाउंट और अपनी Currency Symbol के बीच में कोई Space चाहते हैं. अगर हां तो यहां पर Yes कर दें और नहीं, तो यहां पर No कर के आगे बढ़े.
  • Show Amount In Millions : यहां पर आप से पूछा गया है कि अगर आपके कंपनी का Turnover करोड़ों और मिलियन तक जाता है तो यहां पर Yes कर दें अन्यथा ना कर दे.
  • Number Of Decimal Places : इसमें आपसे पूछा गया है कि क्या आप अपने बिल के अमाउंट के पीछे कितने दशमलव रखना चाहते हैं. अगर हम बात करें, अपने भारत देश की. तो यहां पर अमाउंट के आगे सिर्फ 2 Digit वाले ही Decimal Places किए जाते हैं तो यहां पर आप 2 टाइप कर दें.
  • Word Representing Amount After Decimal : आप से पूछा गया है कि जो नंबर आपको आपके अमाउंट के डेसिमल के बाद दिखता है. उसे आपकी भाषा में क्या कहते हैं ? तो अगर हम भारत की बात करें. तो यहां पर दशमलव के बाद दिखने वाले अंकों को पैसे कहा जाता है. तो यहां पर आप कैसे लिखें ?
  • Number Of Decimal Places Of Amount In Words : यहां पर आप से पूछा गया है कि क्या आप अपने उस अमाउंट को, जो कि दशमलव के साथ दिखाया गया है. उसको Words में देखना चाहते हैं, तो यहां पर आप Yes कर दें.

Tally Prime Me Company Kaise Banaye : तो दोस्तों अब आप इससे Enter कर दे. इसी के साथ आप की भरी हुई सारी डिटेल्स Accept हो जाती हैं. अब आपके सामने एक नई स्क्रीन खुलेगी. जिसमें आपको Company Creation Set का नोटिफिकेशन दिखाई दे रहा होगा.

Tally Prime Me Goods And Services Tax Enable Kaise Kare – Enable Goods And Services Tax

तो दोस्तों इसमें आपको Taxation वाले ऑप्शन पर आना है. जहां पर आपको दो ऑप्शन दिखाई दे रहे होंगे. Enable Goods & Services Tax, GST इसको आपने Yes करना है. अब आपके सामने एक नई स्क्रीन खुलेगी. जिसमें आपकी GST Details पूछी गई होंगी. दोस्तों यह बहुत ही आम सी बात है अगर आपने कोई कंपनी क्रिएट करी है. तो उसका जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी करवाया ही होगा. तो यहां पर आपको अपनी उस कंपनी की सारी जीएसटी डीटेल्स भरनी है. तो चलिए एक-एक करके हम इसकी बात करते हैं.

GST Registration Details :

  • State : आपकी कंपनी कौन सी State में है या फिर आपकी जीएसटी का रजिस्ट्रेशन कौन से State में हुआ था. वह यहां पर चुने.
  • Registration Type : अब आपकी रजिस्ट्रेशन का Type पूछा गया है. तो यहां पर आपको Regular पर सिलेक्ट करना है.
  • GST Applicable From : दोस्तों यहां आपको वह तारीख डालनी है जिस तारीख में आप ने GST को Applicable किया था. मेरा मतलब है, जब से आपका जीएसटी नंबर चालू हुआ था, वह तारीख यहां पर डालनी है.
  • GSTIN : यहां पर आपको अपनी कंपनी का जीएसटी नंबर डालना है.
  • Periodicity Of Gstr-1 : दोस्तों यहां पर आपसे पूछा गया है कि आप अपनी जीएसटी रिटर्न किस तरह से भरते हैं. क्या आप अपनी कंपनी की जीएसटी Monthly भरते हैं या फिर Quarterly भरते हैं. वह आप अपनी कंपनी के अनुसार यहां पर चुने.

इसके बाद आप Invoice Features पर आ जाएं.

Read Also : Tally Prime Me Logo Kaise Lagaye – टैली प्राइम में लोगो कैसे लगाएं ?

Eway Bill Applicable :

तो दोस्तों यहां पर आपको Yes करना है. यहां पर आपसे यह पूछा गया है कि क्या आप अपने Bill पर Eway Bill को अप्लाई करना चाहते हैं. सबसे पहले बात आती है कि Eway Bill क्या होता है ?

Eway Bill Kb Generate Krte Hai ?

तो दोस्तों हम आपको एक छोटा सा विवरण देना चाहते हैं कि Eway Bill एक डॉक्यूमेंट है. जो कि किसी भी माल को एक जगह से दूसरी जगह के Document Transportation के लिए बनाया जाता है. असल में सरकार ने यह लागू कर दिया है कि जब आपका माल की कीमत 50,000 से ज्यादा होती है. तो आपको एक Eway Bill Generate करना होगा. यह जनरेट आपको Eway Bill Website पर ही जाकर करना होगा.

परंतु इसमें दो बातें हैं :

  1. 50000 की लिमिट, तब इस्तेमाल की जाती है जब आपका माल एक राज्य से दूसरे राज्य में जाता है.
  2. और अगर आप अपने माल की आना आवाजाही उसी राज्य में कर रहे हैं. तो इसमें ध्यान देने वाली बात यह है कि जब भी आपका माल ₹100000 से ऊपर का होता है. तब आपको अपने ही राज्य में आवाजाही करने के लिए ई वे बिल का जनरेशन करना होगा.

दोस्तों दोस्तों उसी से संबंधित यह सारी डिटेल्स आपको यहां भरनी है और Last में Accept के ऑप्शन पर क्लिक कर देना.

Conclusion

Tally Prime Me Company Kaise Banaye : तो आप देख पा रहे होंगे कि अब आपकी कंपनी की सारी डिटेल्स पड़ चुकी हैं और आपकी एक नई कंपनी बनकर तैयार भी हो चुकी है. हमें उम्मीद है कि आपने पूरा पोस्ट अच्छे से पढ़ा होगा और समझा भी होगा कि कैसे आप Tally Prime में कंपनी क्रिएट कर सकते हैं.

1 thought on “Tally Prime Me Company Kaise Banaye – Tally Prime में कंपनी कैसे बनाएं ?”

  1. Pingback: Tally Prime Me Backup Kaise Le - टैली प्राइम में बैकअप कैसे ले ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *